कितना मुश्किल है



गोमा थापा

आकाश से पूछते है तन्हा रहना क्यो कितना मुश्किल है,

खुद को खुद से रूबरू करना कितना मुश्किल है।

 

कोई हाथ पकड़ कर छोड़ ना दे,

उस जज़्बात को समझाना कितना मुश्किल है।

मंजिल तक पहुच कर,

हार का सामना करना कितना मुश्किल है।

 

ज़िंदगी जीने की चाह में जीते – जीते,

मौत से  मुलाक़ात करना कितना मुश्किल है।

भय को आंखो मे छुपा कर,

मुस्कुरना कितना मुश्किल है।

दुनिया के सामने निडर का,

मुखौटा लगाना कितना मुश्किल है।

 

राही बन कर साथ चलते है मगर,

मंज़िल तक साथ निभाना कितना मुश्किल है।

वक़्त के साथ चलते है मगर वक़्त को,

अपने साथ चलाना कितना मुश्किल है।

 

“कश्ती को कभी-कभी किनारे नहीँ मिलते, तो कभी राही को राह मे सहारे नही मिलते

गुजर जाती है ज़िंदगी इसी डर से, कि कोई तन्हाई के सहारे ना छोड़ दे“।

 


18 comments

  • Too beautiful lines……

    Rajesh
  • Expressing fear with beautiful lines. Keep going……

    Manish
  • Very beautiful lines…….. explaining the fear associated with life…. keep going. God bless

    Rahul
  • Thank u, kavita ko feel karne ke lie

    Goma
  • Beautiful lines as beautiful u are dear..

    Sweeti Gulati
  • Beautiful lines as beautiful u are dear..??

    Sweeti Gulati
  • These lines are reality of our life …,..
    Comment Maine nahi meri ruh ne ki h ye….

    Saurav kumar
  • Wow!!
    Ultimate!!
    Fantastic

    Laksh garg
  • Mazzza agya…….very true…..touch my soul.

    Pankaj chauhan
  • Fabulous poem… Dil khush kar diya…??

    Anuj mahajan
  • Heart touching lines

    Vibhu
  • ISs poem ko padhne k baad apne aap ko comment karne se rok pana mushkil hai!!!!!

    Raghav garg
  • Awesome poem..heart touching lines…

    Jitender gajrani
  • Very beautiful & heart touching poem….Gud.. keep going….

    Abhishek Somani
  • Situations of lyf expressed with meaningful words..nicely written.:)..looking forward for d next one.

    Sangeeta
  • Fantabulous !!!

    Aadeesh Jain
  • Real expresssion of fear

    Amit Goel
  • Reality of fear actually described with wonderful lines!
    Keep going:)

    Vaishali

Leave a comment