Deadline to submit your poems has been extended to February 28th.

धर्म

 
जन्म लिया सबने एक सा 
इस धरती पर 
धर्म के नाम पर
गए सब बिखर 
हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई 
भाई भाई से कर रहा है लड़ाई 
धर्म की इस तलवार ने 
इंसानियत ही दी मिटाई 
क्या काम ऐसे धर्म का 
जो बहाये मासूमो का खून 
क्या काम ऐसे धर्म का 
जब दुनिया  में रहा ना सुकून ?

2 comments

  • Very well

    Shreya Vij
  • Well explained ✌️

    Drishti Sharma

Leave a comment